Leaving the earth behind in a better shape

Nestled in the impossible verdant hills of distant Kumaon and flanked by the sky kissing snow-covered hills, this distant region looks like a gem in the paradise. But, this picture-postcard perfect hill corner was an abyss of neglect and under-development and was falling off the map, until a few years ago when Avani, a Voluntary Organisation, decided to ‘exploit’ nature to provide livelihood opportunities to the people, along with sustaining, conserving and enriching nature!

That’s what Neema Devi, 32, a homemaker and farmer from Banoli village, Pithoragarh district, is doing since years as she walks from her small, 10 nali (about half ha) field to Avani’s colour processing unit, with a bag of pomegranate that also grow om her field, “I’m going there to make yellow colour from it with others to make natural water colours, crayons and even kumkum or sindoor,” tells Devi.  Besides pomegranate, other plants like turmeric, marigold, Myrobalan, growing in the surrounding areas, are also used to produce a range of natural colours for textiles, art supplies (crayons, water colours), cosmetics, wood stains and organic or non-toxic kumkum or sindoor, while the one that most married Hindu women fill the parting on their heads has mercury, a known carcinogenic element.

While pomegranate rind and marigold flowers yield yellow, green is from basunti leaves, brown from walnut hulls, black and grey from myrobolan fruit blue from indigo. Most of these plants were grown locally, but indigo was bought from outside, mainly from Bihar, initially. But, as the ‘business’ progressed, they decided to grow it here and commenced Himalayan Indigo Project, 44 farmers took to cultivating Indigo for dye extraction. And, farmers are thankful for it, “I grew 347 kg indigo leave and earned an income of Rs. 7,278 and as it can be grown just in 90 days on my wastelands with little labour input with no monkeys damaging it, I can also grow other crops,” says an elated Savitri Devi of Maana village, Bageshwar district.

These organic dyes aren’t used just for making water colours, crayons and kumkum, but also to dye woollen and silk yarns that the local artisans convert into gorgeous and striking shawls, stoles, mufflers, home furnishings and garments for men, women and children, “We use plants growing in the surrounding area also for dyeing many fabrics that we produce. These plants are grown and collected by women’s groups, providing an additional income source in the villages,” says Rashmi Bharti, co-founder, Avani.

Exploiting nature and extracting earth alongside nurturing it was the principle on which Avani stood for, living true to its name as it means Earth! “Today, Avani creates opportunities for rural people to find viable employment through a self-sufficient and environmentally sustainable supply chain that is sensitive to the cultural context of this region as we want to leave the Earth behind in a better shape than what we found when we came here,” says Bharti.

Promoting organic Kumkum and extracting essences from the locally grown plants to make water colours and crayons and indeed sensitive to then local culture as small farms are the only source of income for most households, but they want to augment their incomes from their limited resources, without migrating and Avani provides them many opportunities through its sustainable, conservation-based livelihood generation.

When Avani was founded in 1997, originally as the Kumaon chapter of the Barefoot College, formally known as SWRC, then as a VO in1999, it spotted just not the immense natural wealth of the region, but also the craftmanship of the locals and began working with the Shauka community, also known as Johari or Johari Shauka, of the Bageshwar and Pithoragarh districts, who were nomadic and were a part of the thriving Indo-Tibetan trade before Tibet was taken over by China. As they settled down, they became increasingly dependent on spinning and weaving that they’d traditionally practiced to process animal fibre for their use and commerce.

Avani recognized their traditional, genetic skill and decided to make it more ‘modern’, market-friendly and profitable and replaced their traditionally used raw-material hemp that they were abandoning because of the ambiguous legal framework around the growth of Indian hemp and were abandoning their craft and the VO trained them to work with silk and wool, instead. The raw materials: wool, silk, pashmina and linen, are dyed using natural dies as a wide range of colours such as brown, yellow, orange, and green are extracted from locally available plants, while red and blue are made from indigo and shellac, procured from other parts of India, “Bharti tells.

Textile remains their main initiative where they work with 1100 artisans in 52 villages of these two districts and more than 63% of Avani’s artisans come from the Bora Kuthalia community with whom they are currently involved with. They are happily contended that their traditional skill has reached to the world at large, also yielding a good income to them. Hema Agri, Beladagar village, Begeshwar district says, “Today, as a skilled weaver of shawls, stoles and mufflers in silk and wool. I make a neat Rs. 5,000 in a month.”

So are others like Deepa Bhauryal, once a shy girl, joined Avani, when she just 18, is one of such life, transformed as she became an excellent weaver and works at a managerial level where she supervises other weavers at Avani as the VO is reviving the beautiful art of weaving.

Respecting local culture was the motive behind its work as it went for the preservation and revival of the traditional craft of weaving, spinning and natural dyeing. The philosophy has been to introduce modern raw materials to make contemporary products while conserving the handicraft skills as livelihood options. Hence, spinning and weaving of wild silks such as tussar, eri and muga as well as pashmina reintroduced and today scores of women land at its three-acre campus where they die wool and silk in natural colours and take the fibre back home where they spin them on solar powered spinning wheels, developed by Avani that women are find highly convenient, “I can spin clothes at my home at my free time as I just made this stole,” tells Manju Bora, Digoli village, Pithoragarh district. This system augments women’s productivity. Her stole was stunningly bright green, made in Tibetan sheep wool and blended with the matching light green merino wool, procured from Indo-Tibetan border area, is easily spun by local people, gets softer with use and is very durable and at the VO, it is often blended with other fibres, including merino wool and silk.

Others like Kaushalya Bora, Sukna village, Pithoragarh district, prefer Harsil wool, produced in Harsil, near Gangotri in Garhwal that she spun to make eye-catching maroon coloured sweater. Others use Australian merino wool, produced in India and also imported from Australia to make sweaters, mufflers and shawls.

Besides wool, silk is another raw material, Avani indulges with and it is called Ahimsa or non-violent Silk as this wild silk—not the cultivated silk—where cocoons are collected in the wild, from local plant species and traditionally silk yarn is reeled with machines using un-pierced silk cocoons, in which the cocoon is steam boiled to kill the pupa to stop the emergence of the moth, which would have pierced the cocoon if natural processes were allowed to occur. “But, we allow the pupa to metamorphose into a moth then hand spin the silk to make Ahimsa Silk. The moth pierces the cocoon to escape, breaking the strands of the cocoon, and resulting in fibre that needs to be spun by hand, tells Bharti.

They also use hand-spun tussar silk that has a unique, pebbly texture and natural beige colour and eri silk, whose cocoons are collected in the wild from castor plants. With its success, it decided to indulge with muga silk, the most expensive and finest of India’s wild silks, collected from the forests in the North-East and naturally gold silk clothes such as exquisite saris are made and the customers just love its extremely rich texture.

Pure linen and is also blended with silk and wool and pashmina are the other raw materials procured from Belgium, Tibet and Ladakh are used to make clothes that the local weavers weave and Avani sells them nationally and internationally through a self-reliant cooperative organisation called EarthCraft, that is owned and operated by the artisans themselves.

Earthcraft markets products like shawls, stoles, mufflers, home furnishings, and garments for men, women and children in addition to organic detergent, organic kumkum, and eco-friendly art supplies from natural dyes, both locally and globally. While textile products are sold under Avani brand, kids products carry the Goraiya brand. Earthcraft became a self-sustaining business in 2009 and is now upscaling to increase its outreach. Now, it also has a sustainable fashion hub that can be found at http://www.bhusattva.com, a certified apparel brand and a series that examines shifts in the global fashion industry to more sustainable and ethical practices and processes, with a special focus on India.

Customers just fall for the innovative and dazzling designs of textiles with exclusive colours and inimitable patterns that’s usually Rashmi’s brainchild and she has no formal training in design, but learnt through experience!

All clothes must be washed and Avani found an organic, eco-friendly detergent for it also! It is reetha (soap-nut or Sapindus trifoliatusis), an indigenous Indian tree, whose fruits contain saponin, a natural and active cleaning agent that can be used for laundry and keeps colours bright and intact. It is a natural wash with antiseptic properties, good for eczema and sensitive skin.  “We discovered that it is exported to Germany in a big way as they used it for bathing and washing and we use chemical detergents like Ariel and Surf,” exclaims Bharti.

And, they decided to market it. Today, Avani procures and processes reetha and sell its fruits abd powder. Reetha plants are grown locally and all steps like collection/ harvesting, drying, deseeding and making powder. While dried reetha fruits are sold for Rs. 18 a kilo, de-seeded reetha for Rs. 30 and reetha powder for Rs. 60.

There is another side of the coin too in Avani’s story and this is the story of Rashmi’s soulmate, Rajnish Jain’s craze with energy production. He too ‘exploits’ nature by producing electricity from pirul (pine-needles), a totally waste product and a menace in hill villages, being a major cause of forest fires. Yes, the VO has a gasifier in the village that turns this menace into electric current that is supplied to the grid of Uttarakhand Power Corporation Limited (UPCL) and pays the villagers who collect it from the fields and forests are paid Rs.2 a kilo.

The VO has a 10KW gasifier that converts pirul into since 2005 along with a by-product that is also used.  While, the electricity goes to the grid of Uttarakhand Power Corporation Limited, the by-product; tar is mixed with charcoal and is turned into coal that the villagers lap and buy for Rs. 10 a kilo.

Encouraged with its experiment in its he main Tripuradevi and another plant at Simalta village, “Avani is determined to take the electricity generation forward in four neighbouring villages of Chankana, Seli, Bhatijer, and Daangigaon, where people donated land for power plants and these villages are remote, located from 30 minutes to four hours walking distance from the nearest road,” tells Jain, co-founder, Avani.

Her efforts to promote traditional weaving skills and handloom won her many accolades such as Janaki Devi Bajaj Award for Rural Entrepreneurship in 2011, Most Innovative Enterprise of the Year –Citi Foundation Award, 2012, Sustainable Fashion award 2015 for the contribution in the area of Sustainable Development in crafts by the Government of India.

As a deciding step to extend the gift of 3Rs to the villagers, the Avani campus also has a primary school in its backyard where their only daughter, Tanvi, studies in Class V, “You cannot separate social and professional life. Even one’s personal life is also a part of his social life and both had immense belief in individuals from the very beginning,” reasons Jain. The school within its campus is the reflection of their commitment of uniting their professional and social lives, so is the life in the campus as almost all of its 25 workers are locals, many of them live in the campus and eat in the community kitchen. Then, it harvests millions of litres of rainwater and all used water is recycled and used for irrigation and not a single drop is wasted and while it has the electric connection from the UPCL, it also generates 9 KW solar electricity for its uses, “As we want to leave the earth in a better condition that we got,” says the couple in unison.

Already the microcosm of earth is in a better shape since the campus now boasts of a mixed forest, having hundreds of broad-leave plants like oak, rhododendron, utis and tun, while earlier, it was had just pine.

The determined couple, indeed, would leave the earth in a better shape!

Advertisements
Posted in General | 1 Comment

आवा म्यार पहाड़ – सीखो सिखाओ, करो कुछ नया!

अतीत में  हम सब संस्थाओं ने बहुत से सुंदर कैंपस बनाए, संवारे, बड़े जतन से | कई सम्मेलन, गोष्ठियां, विभिन्न कार्यक्रम किए; और भी बहुत कुछ किया, इन्हीं मनोरम प्रांगनो में बैठ कर, ताकि ग्रामीण समुदाय और विकास की ताकतें आपस में मिलें, एक दूसरे को समझें और जमीनी स्तर पर बदलाव का आगाज़ करें |

वक्त बदला, तकनीक  बदली;  वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ने जगह ले ली, गोष्ठी और आँगन की; दानदाता की प्राथमिकता बदली;  हम भी बदले; सब कुछ एक नंबर गेम बन चला; विकास के पुरोधा ‘दुकाने’ संभालने में लग गए; उस पुराने आंगन के इर्द-गिर्द बसे गांव हाशिए पर सिमट गए; विकास बाईपास सर्जरी की तरह ग्रामीण समुदाय को बाईपास करता बढ़ चला | वे पुराने कैंपस बेमानी हो गए;  एक  रात गांव में बिताना, लोगों से गपशप करना, चाय पीना – वह सब बीते युग की बातें बन गई | इनकी जगह ले ली –  9 से 5 के अति-व्यस्त कार्यकर्ताओं ने, प्रेजेंटेशन, गूगल डॉक, ईमेल, कांफ्रेंस कॉल आदि आदि …डोनर ने हमें राह दिखा दी, और हम चल पड़े उसी राह पर, सब कुछ भूल कर;  आंगन विरान हो गए, मिलना जुलना भूली बात हो गयी | गाँव के बीच हमारा वजूद एक फंतासी सा लगने लगा | आखिर इस ग्रामीण अंचल में बैठे हम कर क्या रहे हैं ?

IMG_20170508_162729184_HDRमैं खुद कम से कम 6-7 संस्थाओं को जानता हूं जिनके खूबसूरत कैंपस आज भी चहल पहल का इंतजार कर रहे हैं – एक अर्थपूर्ण संवाद का; और मेरा यह मानना है कि यह  सब थोड़े से प्रयास से संभव है |

इस दिशा में, हिमालय ट्रस्ट और समता  (विकास नगर) एक संयुक्त प्रयास  कर  रहे हैं | हमारा लक्ष्य है ऐसे ग्रामीण सुविधाओं को पुनर्जीवित करना जहां स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय और अन्य संगठन (देश और विदेश से भी) अपने समूहों को भेज सकें; संवाद, अनुभव और सेवा के लिए; ऐसे कई संगठन रुचि तो रखते हैं पर अपने समूह कहां भेजें, इस पर बहुत स्पष्ट नहीं है |

ऐसी एक छोटी सी शुरुआत हमें कहां कहां नहीं ले जाएगी यह कहना मुश्किल है! कुछ भी मुमकिन है ! मगर मेरा यकीन है कि ऐसे क्रिया-कलाप न केवल संस्थाओं को कुछ आय देंगे बल्कि विचारों के आदान प्रदान और नए वालंटियर्स की तलाश में एक महत्वपूर्ण कदम हो सकते हैं |

मेरा कोई साथी जल्दी ही आप से इस बारे में मिलेगा |  पर इससे पहले मैं आपसे फोन पर इस बारे में विचार विमर्श करना चाहूँगा | अगले 6 से 8 हफ़्तों में हम इस प्रयास को आपके सहयोग से आगे बढ़ा सकते हैं |

तब तक ढ़ेर सारी शुभकामनाओं के साथ,

भवदीय

सीरिल रफेल (सचिव – हिमालय ट्रस्ट) और डॉ. सत्येन्द्र श्रीवास्तव (सचिव –  समता)

Posted in General | Leave a comment

Hosting Miscellaneous Groups – An invitation to work together

Over the years, many of our organizations have developed rather lovely campuses that in the past hosted all sorts of functions that brought together organizations and the communities they served to celebrate and to discuss all sorts of issues from which we could all learn and stay in touch with each other.

As time has passed by, new age technology has taken over, less and less importance is given to face to face contact/interactions, communication between development investors (donors) and development implementers (social organization) has been reduced to a number game (marketing). The result is that now you have a rather cold hearted, impersonal touch as opposed to caring warmth in civil society groups who have preoccupied with keeping open their “Dukans” and working on personal survival rather than promoting the needs of neglected and marginalized people.

Suddenly, the hard work and investment many of us put into developing our campuses into being places that could bring in the corporate and government agencies closer to the rural people so that their lives could develop in a context to their realities, were derailed by the introduction of “fast forward” methodologies that simply left simple people gasping in their inability to understand what was happening.  Suddenly, the smart vested interests in society (both organizations and sections of rural society) grabbed everything with both hands and weaker ones were weakened further. The donors who were in a hurry to show results and the implementers who did not have too many scruples in taking “shortcuts” pushed the more sustainable but more thorough models into the background which as a result, left those in the villages who really needed help further into the margins of have-nots.

The age of spending nights in a village, chatting with and encouraging people to understand the changes that were necessary, was replaced by the 9-5 pm social workers who now rush through their prepared texts and formats – not to mention bundles of money of incentives – that actually serve the donors agenda more than those of the people. All of this leaves the voluntary sector as it used to be known at the bottom of the respect ladder.

IMG_20170508_162729184_HDRLet’s do something about this………………. I can think of at least 6-7 voluntary organizations with lovely but almost defunct campuses lying vacant that have the potential to be vibrant once again.

The Himalaya trust (THT) and Society for Motivational Training and Advancement (SMTA) have come together in association on the SMTA campus in Vikasnagar, Dehradun, to start places where schools, colleges, universities, summer study camps, misc. focused groups, etc. (both from India and abroad) can send their groups. Many groups are interested but do not know where to go. “Some of us have done this kind of work in the past and if I can say so – very successfully”. We can raise good resources on our own and break the dependence on the largesse of donor agencies. These revived campuses may be very modest places to start with, but soon they can learn how to go from being sort of home stays into “think-tank” kind of places dotted all over Uttarakhand that allow noble thoughts to come to them from every side – thoughts and activities that can inspire and guide Uttarakhand in the years to come.

Soon, I hope that someone will visit you personally to discuss all of this. But before that, I look forward to a chat on the phone in this regard.

Stay well my friends and in the next 6-8 weeks, let’s get this off the ground.

In solidarity,

Cyril r. Raphael (Secretary – The Himalaya Trust) & Dr. Satyendra Srivastava (secretary – SMTA)

Posted in General | Leave a comment

Back in the field!

IMG-20171126-WA0001.jpg

Image | Posted on by | Leave a comment

Gender discrimination thrives in Uttarakhand as well

The hill state of Uttarakhand is largely the result of a struggle lead by women who fought for a separate state that was carved out of Uttar Pradesh on 9 November, 2000, just about 17 years ago and when we had just ‘celebrated’ the State Foundation Day, it would be pertinent to look at the prevailing status of women in the state.

It will be pertinent to look at the status of women in Uttarakhand as they have always been at the forefront of any struggle to secure people’s rights; be it fighting the colonial regime over their forest rights that ultimately culminated into the formation of van panchayats, the famous Chipko Movement, or anti-alcohol or anti-mining movements that continued till date.

Although considered as the backbone of the state’s economy, they are under heavy work pressure, especially in the hills, where besides taking care of almost all household chores, they fetch biomass, fuelwood and water and except ploughing, carry out almost all other farming activities, but don’t have the status of farmers and have little say in marketing the farm produce.

And, men plough the fields as the earth is considered a female and ploughing means making it fertile, so it is a taboo for women, since it the ‘sacred duty’ of men to make a woman fertile!

Hence, it is pertinent to look at the prevailing status of women, without whose struggle and sacrifice, the very existence of Uttarakhand wasn’t possible.

As per the figures of 2011 census, there were 963 women per 1,000 men in Uttarakhand, making it better that the all-India figure as gender ratio in the country was a low 939. But, when we look at the child gender ratio (below five), it was a shocking 908. Clearly, gender discrimination prevails in the length and breadth of this hill state and despite of the PNDT Act that had made the revelation of the foetus’s sex in an ultrasound test of a pregnant woman, this is observed more in breach than in strict observance and many unscrupulous doctors must be happy to reveal it for a few thousand rupees!

Even if we look at the overall gender ratio, it was highest in a hill district: Almora, where it was 1142, followed by Rudraprayag, where it was 1120, then 1103 in Pauri Garhwal. Except in Uttarkashi, where it was 959, it was well above 1,000 in all hill districts. In plain districts, the picture was reverse. In the capital, Dehradun, it was just 902 and in Haridwar, it was much worse, at 879. Even in two plain districts of Kumaon Division-in Nainital and Udham Singh Nagar, it was 933 and 919 respectively.

 

Why is it so? Is it because hill people love girl child and sustain them? After all, all laborious tasks are performed by women in the hills, so they must be valuing their daughters!

Or, is it because a very high degree of male out-migration both within and outside the state? To Dehradun, Haridwar and Udham Singh Nagar and plain areas of Nainital within Uttarakhand and to cities like Delhi and Lucknow where most hill men rush to eke out a living, often doing menial jobs and daily-wage labours?

 

Instances like a recent incident in Panuanaula area in Almora district where a man was arrested for marrying off his minor daughter and widely prevailing incidents of female infanticides in Garhwal hill districts are enough to tell the tale!

How the hill men take care of their women is clear when we look at its Fertility Rate which was Fertility Rate of 3.6 in 2006, when the national figure was 2.7; meaning an average hill woman bears a child in her foetus 3.6 times in her life, facing avoidable risks every time she becomes a mother. Little wonder, Uttarakhand is cursed with a higher Maternal Mortality Ratio at 440 in 2006, which is significantly higher than the National average of 254.

This is the high time when we make women the torch-bearers of change again as we have just entered into the 18th year of its existence as a separate hill state of the country, as without women who  have always fought to secure their rights over the natural resources like water, land and forest because their survival and livelihoods depend on the proper management and sustainable harvesting of these resources and the very establishment of this separate hill state, are still treated as a second class citizens, deserve a state of their dreams that’s still a far-cry.

Posted in General | Leave a comment

Development or destruction?

Destruction in the name of development continues in the fragile hills of Uttarakhand as a huge maga-dam, world’s second highest: 315 metres above the sea level, comes in the remote corner of Kumaon hills, on Indo-Nepal border, where no attention is paid to its ecological and social impacts that are quite consequential. The Dam was given a green signal by India’s Union Ministry of Environment and Forest (MoEF) that eases India-Nepal Pancheshwar project assessment guidelines and fulfilling the Prime Minister’s promise to the people of Kumaon during his election campaign in January 2017.

While the MoEF’s expert panel waved off the requirement of joint mechanism to assess its environmental impact to expedite work on it, people’s protest against it intensifies as it will directly affect 134 villages and 31,000 households in Pithoragarh, Champawat and Almora districts, besides indirectly affecting many more and will submerge 11,600 ha land (7,600 in Kumaon and 4,000 in Nepal).
Of these 134 villages, 123 will be resettled, not rehabilitated, in make-shift camps where they would live like animal. Villagers, fearing displacement, have started protesting and have burnt copies of the Detailed Project Report (DRP) that was recently made public.
Residents of the affected villages have formed a protest forum to give voice to their movement against this in India. Viplab Bhatt, a resident of Jhulaghat village on Indo-Nepal border, Pithoragarh district, quips, “Resettlement villagers is not the solution. How will they earn a livelihood after being resettled?” adds, Padam Singh, gram pradhan (village-head), Draulisera village, “No survey was conducted to rehabilitate the ousted families and no government or Pancheshwar dam authority representative visited our village. This DPR is based on a survey that was conducted 30 years back and land rates were peanuts then.”

Villagers also submitted a memorandum to the district magistrate and asked for public hearings first and then DPRs.

And, the public hearing was conducted that turned out a complete sham as was abandoned amidst massive protest by the villagers and activists as for the people of these villages, it is a curse, “Public hearings are just formalities and most things have already been decided. The common people were not taken into confidence before announcing the project,” pointed out Rajiv Locan Shan, editor, Nainital Samachar, a Hindi weekly and an activist.

The only political party opposed it was the Uttarakhand Kranti Dal (UKD), the lone regional party in the hill state, has threatened protests after a team of officials from India and Nepal inspected the site of the Pancheshwar hydropower project planned on the Mahakali river, called Sarda in Nepal, “The world over countries are adopting run-of-the-river schemes to produce hydropower but here we are making a huge dam in the fragile valley that falls in the earthquake-prone zone,” Kashi Singh Airy, a founder of the UKD and ex-MLA, pointed out.

He also blames the existing BJP government, “Ever since this government took office, destruction in the name of development continues unabated. First, they sacrificed thousands of evergreen trees to widen national highways connecting char-dhams (four adobe of gods), then displaced hundreds of households and submerged vast amount of land for the 125 km long Rishikesh-Karnaprayag Railway Line and now this mega-dam,” blames Airy.

The Pancheshwar project, a part of the 1996 India-Nepal Mahakali Treaty, has been opposed by environmentalists, anti-dam activists, and Maoists in Nepal.

The UKD plans to get in touch with activists in Nepal and start a protest. Airy said the project will not only harm the environment but will also submerge the “river valley culture” of both the countries.

 

While Kumaon will face the devastation, thanks to this mega-dam, Uttarakhand will get just 12% of electricity. As this dam is being constructed in a high seismic zone, the policymakers ignore this fact, at the peril of local residents as between 1992 and 2006, over 10 earthquakes with a magnitude exceeding 5 on the Richter scale have had their epicentre within a 10-km radius around the Pancheshwar dam site, according to a 2010 research report.

Although, the officials claim that 123 villages will be ‘rehabilitated,’ they are silenced over the question of the livelihood of the displaced villagers. The Pithoragarh Pancheshwar Dam project bears an uncanny resemblance with the Tehri Dam project – thousands of villagers facing threats of displacement and loss to over hundreds of local temples and deities. Anti-dam activists and environmentalists have been up in arms for long regarding the project. The three above mentioned districts are inhabited mostly by farmers and their lands will be ruined if the project comes up. And, this dam would be seven times stronger and if Tehri Dam victims haven’t yet been rehabilitated, how long will the people kicked out by this dam would take to re-start their life is an open question. Also, while contrary to the planned installed capacity of Tehri Dam of 2400 MW, it produces less than 1000 MW in reality, how much will this dam of its installed capacity of 5040 MW would produce at what cost, no one can tell. In addition, it will have huge ecological adverse impacts like submergence of a huge area of forests and wildlife and as the Himalayas are formed by the sedimentation of rivers, thus it is very fragile. Big lakes of the dam will increase the capillary movement of water in nearby areas, resulting in frequent landslide. Also, the water of small tributaries of river Kali, which get filtered due to their downstream movement, will get spoiled, because of the backwater force of dam.

Little -wonder, the residents are no-longer, ready to be sacrificed at the altar of the so-called development anymore and have launched protests against building the dam and vouched to oppose the construction of the Pancheshwar dam tooth and nail if their rehabilitation is not taken care of. Affected villagers have also expressed their resentment before the members of the India-Nepal Joint Action Forum. The villagers expect proper rehabilitation, right compensation, employment options and residential accommodation. They have emphasised that employment and rehabilitation should be stressed upon.

The public hearing was a total deceit as Shah pointed out when he began speaking about the vices of the Pancheshwar dam following which a clash broke out. The administration then dragged Sah out of the auditorium, “It is unconstitutional to not allow somebody to speak in a public hearing. The administration is toing the government line is not allowing anyone to speak against the dam,” Shah said, adding, “We are concerned about our society and the environment and, hence, are opposing the dam.”
Shamsher Singh Bisht, president of Uttarakhand Lok Vahini said, “It is very disturbing that the people who are actually raising the concerns of the affected people are not being allowed to speak. This is not a public hearing at all.” P C Tiwari, leader of Uttarakhand Parivartan Party has also raised question on the procedure of the public hearing and asked why it is being conducted during the monsoon season.

As expected, the only politician supported this menace, belongs to the ruling BJP and its MLA Raghunath Pratap Chauhan loaded it as a dream project for the country and suggested the authorities to properly rehabilitate the affected people.

When this public hearing began at Dhauladevi in Almora district, people started protest as the villagers from the project-affected villages reached there in a large number and accused the administration to deceive people about this project. This public hearing too was conducted by the administration only after Uttarakhand High Court issues an instruction for it and even then, the administration just did the formality and did everything to mislead people.

This dam would also submerge properties worth several hundreds of crores and many temples, including the famous Pancheshwar Temple and monuments, crucial embodiments of Kumaoni culture. But, this project, costing a massive Rs. 40,000 crore that is bound to multiply many times by the time it is completed, means a huge cut to policymakers and bureaucrats, so they are ‘dutifully’ supporting it. Little wonder, the administration did everything to sabotage the public hearing conducted on 9 August, 2017 at Chapawat and the process was repeated on 11 Aug at Pithoragarh and on 17th at Dhauladevi, “The administration chose these dates in the midst of the monsoon as most roads are disconnected in the month of August to discourage people reaching at the district headquarters which are far away from the submerging villages,” pointed out Shankar Khadayat, coordinator, Mahakali Ki Avaz, a congregation of affected villages. But, still, determined people reached there in a large number and showed their resolve to oppose its work that would start in 2018 and water would start filling its reservoir in 2026, while the work would be finally over two years later, in 2028.

Indeed, people’s anger and opposition is so widespread that the policymakers will not it find easy to pass it on to the people as a milestone of development.

People of Kanadi village, Pithoragarh district, were up in arms against the government, “The government has totally ignored our rehabilitation and we won’t let them go ahead,” wows a resolute Parvati Devi, 34, a village resident. People from Majirkanada village are also determined to oppose it and demanded to modify the DPR, so are those from Garjia village who demanded to cancel this sham public hearing. Even traders are opposing it as those from Jauljibi, a village on Indo-Nepal border in Pithoragarh district burnet the BJP Government’s effigy and now politicians like Mahendra Singh Mahra, a Rajya Sabha MP opposed it, “It will devastate this seismically sensitive zone.”

As there is a wide-spread opposition of this dam by the people of Kumaon also now politicians chipping it, it will not be easy for the policymakers to pass it on as a failed model of development as now the world over, big dams are being discarded, as more than 1,000 dams have been dismantled in the USA alone and in Australia, a mega-dam, being constructed, costing two billion dollars, is being pull apart, so why they are being promoted here?

Could it because huge amount of money is used in their construction, meaning everyone, from a mere peon to the PM gets a cut?

Posted in General | Leave a comment

पगडंडियाँ Hue, Cry and Whispers from Uttrakhand by Kusum Rawat…13

‘फर्स्ट वूमन फौरेस्टर’: वीना सेखरी

आईए! देश की पहली महिला डी.एफ.ओ. से मिलें। इस जंगल कलक्टर की पहली पोस्टिंग गोरखपुर हुई जो उस वक्त अपराधों के लिए मशहूर था। मैंने यह लेख पिछले साल बीरा पत्रिका में लिखा था। इसे पढ़ उत्तर प्रदेश के तबके सांसद और आज उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी जी की प्रतिक्रिया थी इनको बोलो अब मैंने गोरखपुर सुधार दिया है। तो सुनें पहली जंगल कलक्टर के ‘जंगल- वाक’ का सफर…

वीणा

वीना सेखरी

 ‘फर्स्ट वूमन फौरेस्टर’… आज भले यह सुनने में अच्छा लग रहा है। पर 1980 में कोई महिला डाक्टर व टीचर के बजाय  जंगलात में आ गोरखपुर के जंगल माफिया से भिड़े तो कौतूहल होता है आखिर वह है कौन? मैंने पहली महिला आई.ए.एस. व पुलिस अधिकारी के बारे में सुना था पर पहली महिला डी.एफ.ओ. को ‘गुग्गल सर्च इंजन’ भी नहीं खोज पाया था। मैंने ही पहली बार पिछले साल इस ‘जंगल कलक्टर’ की कहानी 35 साल बाद लिखी। हमारे लोकगीतों में ‘पतरौल घसियारी औरतों’ की नोकझोंक, औरतों का दर्द, जंगल कटने की पीड़ा, सरकार से उम्मीदें और आत्मीयता का रिश्ता छिपा है, जो जंगलात में ‘पतरौल’ (फौरेस्ट गार्ड) से ‘डी.एफ.ओ’ तक पुरूषों के वर्चस्व का जीवंत इतिहास है। ऐसे में एक महिला का जंगलात में आना नियति की साजिश से कहीं ज्यादा पुरूष प्रधान व्यवस्था में महिलाओं का सेंध लगाना था। तो आईए देश की पहली महिला ‘जंगल कलक्टर’ उत्तराखंड काडर की 1980 बैच की वीना सेखरी से मिलें। जो वन विभाग की खाकी टोपी पहन देश के सर्वोच्च पद- प्रमुख वन संरक्षक से फरवरी 1916 में रिटायर हुई। वह देश की दूसरी महिला प्रमुख वन संरक्षक हैं। उनकी इस पोस्टिंग के वक्त भी उत्तराखंड में जमकर खेल हुआ? नहीं तो वीना सेखरी देश की पहली महिला प्रमुख वन संरक्षक होतीं।

‘जंगलाती खाकी कैप’ पर अथर्ववेद के 12:1: 11 की पंक्ति ‘अरण्यः ते पृथिवी स्योनमस्तु… लिखी हैं। ऋषि कहते हैं कि ‘जंगल पृथ्वी के लिए कल्याणकारी हैं। वनस्पति व पशु पृथ्वी का कल्याण कर उसे शुद्ध करते हैं। इस पंक्ति में जीवन का गृढ़ रहस्य है कि- जंगलों के बिना धरती पर जीवन का अस्तित्व नहीं है। शास्त्रों ने जंगलातियों से उम्मीद की है कि वह बिना लालच व डर के जंगल और वन्य जीवों की सेवा करेंगे। यह तो आप तय करें कि वन विभाग शास्त्र की कसौटी पर कितना खरा उतरा है? पर वीना सेखरी की कहानी जंगल के रखवालों को अपने कर्तव्य याद दिलाने को एक कसौटी है। आईए वीना सेखरी की जंगल वाक उनसे ही सुनें।

मैं 1980 में भारतीय वन सेवा में चुनी गई। लोगों की प्रतिक्रिया थी जंगल की नौकरी! अरे दूर दराज में काम करना होगा। क्या तुम कर सकोगी? किसी ने कोई खुशी जाहिर नहीं की। उस बैच में 3 लड़कियों का चयन हुआ। मैं ट्रेनिंग के लिए देहरादून आईं। साथियों की टिप्पणियां थीं इन्होंने 3 नौकरियां खा लीं। ये छोड़ कर चली जाएंगी। पहली एक महीने में, दूसरी तीसरी महीने में व 6 माह में तीनों घर होंगी। लोगों को औरतों से कुछ ज्यादा ही उम्मीदें होती हैं कि यह कर भी पाएंगी या नहीं? हम सबकी नजरों में रहती कि हमने पी.टी. या पैदल चालन किया या नहीं? ना हमने हिम्मत छोड़ी और ना किसी से पीछे रहीं। धीरे धीरे सब सामान्य हो गया। जंगलात में औरतों के बस का नहीं है। इस सोच के बीच ऐसे भी लोग थे कि जो मानते थे कि महिलाओं के आने से विभाग के काम काज में बदलाव आयेगा। एक तरह से वीना सेखरी ने जंगलात में लड़कियों के लिए दरवाजे खोले। इस कड़ी में 2013 में महाराष्ट्र वन विभाग में एक साथ 36 महिला अधिकारियों का चयन एक सुखद मोड़ था।

मैं जंगलात में आऊँगी? यह मुझे भी नहीं मालूम था पर मुझे पिता के केन्द्रीय सेवा में होने का फायदा मिला। मैंने वनस्पति विज्ञान में एम.एस.सी. के बाद वन सेवा का फार्म भरा। सब हैरान थे। हंसते थे कि एक लड़की वह भी जंगलात में। मैं बचपन से निडर थी। मैं किसी की परवाह नहीं करती थी। मैं ऐकला चलो रे….की लीक पर चलती बशर्ते कि वह बात मन को गवारा हो। मैंने बिना किसी उम्मीद के लिखित, पैदल चालन, मेडिकल टेस्ट, साक्षात्कार पास किया। मैं सलेक्ट होने पर खुश थी पर ऐसा कोई भाव मन में नहीं आया कि कुछ बहुत बड़ा कर किया हो। ना ही किसी ने कोई खास खुशी दिखाई। वह सहजता से बोल चुप हो गईं। वीना सेखरी अपने इसी ठहरे व गहरे व्यक्तित्व लिए वन विभाग में जानी जाती हैं।

मेरी पहली फील्ड तैनाती उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में हुई। गोरखपुर की पोस्टिंग आज भी चुनौती मानी जाती है। सोचिए सन् 1983 में क्या हाल होंगे? गोरखपुर तब माफियाओं का गढ़ था। तब दुनिया में शिकागो के बाद सबसे ज्यादा अपराध वहीं होते थे। मैं छोटे कद व दुबली काठी की थी। मेरी उम्र 27 साल की थी। मुझे दिल्ली से बाहर का अनुभव नहीं था। सीनियर अधिकारी भी लकड़ी लाट की नीलामी में होने वाली माफियागिरी के कारण गोरखपुर जाने से बचते थे। गोरखपुर तराई का इलाका है। वहां जंगलों व डी.एफ.ओ. की तैनाती के बहुत मायने हैं। उसे वहां ‘जंगल कलक्टर’ कहा जाता था। मेरी पोस्टिंग पर लोगों व स्टाफ की प्रतिक्रिया थी कि अच्छा ही है- औरत है। डर के मारे फील्ड में नहीं जाऐगी। यह हमारे हित में होगा। उनकी उम्मीदें गलत सिद्ध हुईं। मैं पौने दो साल गोरखपुर रहीं। मैं पूरे विभाग की आंखों में थीं कि क्या करती है? कैसे करती है? कब तक टिकती है? अरे कर लिया इसने! पर मेरा कार्यकाल बिना विवादों के निकल गया। इससे विभाग में औरतों के प्रति धारणा बदली।

गोरखपुर में ‘टौंगिया प्रथा’ थी। अंग्रेजों के समय से अपराधी बीहड़ जंगलों में काम करते। टौंगिया लोग साल के जंगलों में पौधारोपण व खेती बाड़ी करते। यहीं इनके गांव थे। हर पांच साल बाद इनको दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया जाता। मेरी तैनाती के वक्त टौंगिया पौधारोपण हटा अतिक्रमण की कोशिश में थे। वन विभाग ने टौंगिया समस्या को विभाग की समस्या नहीं समझा। इसका स्थाई हल खोजने के बजाय इसको वहां तैनात अधिकारी की व्यक्तिगत समस्या समझ उसको ही हल खोजने हेतु छोड़ दिया। यह एक मुश्किल दौर था। कई दौर की बातचीत के बाद अतिक्रमण की समस्या शांति पूर्वक खत्म हुईं। टौंगिया कहते कि इसे हमसे निपटने को ‘इंदिरा गांधी’ ने भेजा है। मेरे बाद अतिक्रमण क्षेत्रों में कई बार गोलियां चलीं। गोरखपुर के बारे में मशहूर था कि वहां से कोई भी अधिकारी बिना विवाद के नहीं लौटता। मैंने टौंगिया के साथ बिना लाग लपेट के सहज व सीधे तरीके से बात कर हल खोजा। मैं स्टाफ के साथ निष्पक्ष काम की रणनीति बनाती। इस वजह से जंगल माफिया चुप रहा। गोरखपुर में वन विभाग के दो डिवीजन थे। एक बार दूसरे डिवीजन में लकड़ियों की नीलामी होनी थी। आधी रात को जंगल के ठेकेदार शराब पी बंदूकों से लैस हो हल्ला मचाते मेरे घर में घुसे कि हमें बात करनी है। मैं भी बिना डरे बाहर निकली। उनको समझाया कि नीलामी दूसरे डिवीजन में है तो वह चुपचाप चले गये। मैंने जब यह बात सीनियर को बताई तो बजाय ऐसी घटना की पुनरावृत्ति रोकने के लिए रणनीतियां बनाने के मुझे ही तंग किया गया कि एफ.आई.आर. क्यों नहीं की? कई बार प्रभावशाली माफिया जंगल काटता। मैं लकड़ियां नहीं जाने देती। मुझे दबाव में लेने की कोशिश होती पर मैं डटी रही। वहां स्टाफ जाति के आधार पर बंटा था। जातिगत राजनीति के कारण कार्यालय में गोपनीयता नहीं थी। सारी सूचनाएं लीक होतीं। एक बार किसी क्लर्क का ट्रांसफर हुआ। वह ‘शैडो’ लेकर आफिस आता। उसने मुझे हर तरीके से प्रभावित करने की कोशिश की। मैं दबाव में नहीं आईं तो माफी मांग तबादला करवा चला गया। यह वहां काम का सामान्य माहौल था कि कोई भी, किसी भी हालत में, कभी भी आ धमकता। मेरे पास ना कोई गार्ड था और ना ही सुरक्षा व्यवस्था। ना मुझे जाति की राजनीति का अनुभव था। ना ही फील्ड पोस्टिंग का कोई अंदाजा पर ऐसे में मेरे किसी रिटायर्ड सीनियर की सलाह बहुत काम आई कि वीना तुम निष्पक्ष रहना…। मेरे तटस्थ रवैये के कारण लोगों व जिला प्रशासन ने सहयोग किया। इससे स्टाफ की राजनीति खत्म हो गई। मेरी तैनाती के वक्त गोरखपुर में टौंगिया धरना चल रहा था तो कंजरवेटर ने लिखा कि यहां किसी अन्य की नियुक्ति करें। एक महिला इस जटिल समस्या को हैंडिल नहीं कर सकती! जब मेरा गोरखपुर से तबादला हुआ तो रिलीवर ज्वाइन करने में आनाकानी करता रहा। मुझे मातृकालीन अवकाश पर जाना था। मैं मुश्किल से रिलीव हो पाई। इसके बाद मेरी छवि रफ-टफ हो गई कि गोरखपुर में काम कर चुकी है सो कुछ भी कर सकती है।

मैं गोरखपुर के बाद प्रमुख वन संरक्षक कार्यालय लखनऊ में दो साल रही। मैंने वहां कम नोटिस पर पंजों के बल खड़े हो बिना दबाव में आये काम करना सीखा। मैंने सीनियर से काम की वो बारीकियां समझीं जो लोग कैरियर के अंत में समझते हैं। इस अनुभव ने मुझे परिपक्व बनाया। वनकर्मी बताते हैं कि वीना सेखरी सोच समझकर जनहित में सख्त निर्णय लेने व भावनाओं पर नियंत्रण रख विवेक से काम लेने हेतु जानी जाती हैं। उन्होंने उत्साही, कर्मठ व ईमानदार वनकर्मियों को प्रोत्साहित किया। विपरीत उदंड, कामचोर व भ्रष्ट कर्मियों से सख्ती से निपटा। निष्पक्ष काम व वार्तालाप उनकी कार्यशैली रही है। उनसे दबाव डलवाकर कोई नियम विरूद्ध काम नहीं करवा सकता। ज्यादातर विभागीय जांच उनके पास ही आतीं क्योंकि वह निष्पक्ष जांच कर तथ्यों को एकदम खोल देती थीं।

वीना सेखरी बताती हैं कि मैं पहाड़ी पृष्ठभूमि हिमांचल प्रदेश से हूं। सो मैंने अपने आई.ए.एस.पति पी.सी.शर्मा के साथ उत्तराखंड काडर चुना। मैं उत्तराखंड में डी.एफ.ओ. केदारनाथ, कंजरवेटर शिवालिक वृत्त व यमुना सर्किल व चीफ कंजरवेटर गढ़वाल क्षेत्र रही। यहां के शांत माहौल में कोई दिक्कत नहीं हुई। मैं फील्ड में खूब घूमती। स्टाफ भी सहयोग करता था। इस दौरान विभाग में वीना सेखरी की सख्त छवि बकरार रही। जंगलात में वीना सेखरी वह नाम है जिससे विभाग नीतियों के अनुपालन व सख्त अनुशासन के कारण सहमता था। मैंने 2003 में एक अंग्रेज महिला मित्र से सुना कि वीना सेखरी उसे तंग कर रही है। प्रदेश के एक उच्चाधिकारी ने मुझे इसकी मदद करने को फोन किया। मैं इतना उखड़ी कि मैं टिहरी से देहरादून आई। हमारी मुलाकात नहीं हुई। मुझे बाद में पता चला वह  जंगलात की सम्पति बचा रही थीं। मेरी दोस्त अपने हाई प्रोफाइल सम्बधों के दबाव में गलत काम करवा रही थी।

नियति का खेल बड़ा निराला है। मुझे नहीं मालूम था इस जंगल कलक्टर की कहानी लिखने का मौका मुझे मिलेगा। मैं 2009 में वीना सेखरी से मिली। मुझे उनका सपाट व्यक्तित्व, खरा व नपा तुला बोलना पसंद आया। वह थोड़ा सख्त पर कम शब्दों में अपने सत्य को कहने वाली लगीं। मैंने सुना था वह बहुत अक्खड़ हैं। किसी की नहीं सुनती। लेकिन मैंने वीना सेखरी को एक बेहद भावुक इन्सान के रूप में देखा। मुझे उनके अधीनस्थ बायोफ्यूल बोर्ड में कुछ शौर्ट टर्म मूल्यांकन करना था। मैंने मना कर दिया। पर जब उस साल बोर्ड में हुए पौधारोपण के भुगतान हेतु चौतरफा नाजायज दबाव की रणनीति में बीना सेखरी को अकेले खड़े देखा तो बोर्ड में रूक वीना सेखरी का साथ देने की सोची। वह एक लम्बी कहानी है। बोर्ड में मैंने समझा कैसे लोग निजी हितों हेतु सरकारी सम्पदा को किसी भी सीमा तक क्षति पहुंचाने पर उतारू होते हैं। यह एक कठिन निर्णय था। मैं उस वक्त मशहूर पर्यावरणविद डा. वंदना शिवा के साथ काम कर रही थी। एक ओर मेरा कैरियर था और दूसरी ओर अकेले लड़ती वीना सेखरी। मेरी गुरू कहती थीं- जब बात ‘औरतों के सम्मान और सत्य की हो’ तो उसके पक्ष में खड़ा होना ही असली धर्म है। में बोर्ड मैंने एक बात समझी कि जब लक्षित वर्ग, कार्यदायी संस्था, मानीटिरिंग के लिए जिम्मेदार तीसरी पार्टी और प्रभावशाली लोग एक स्वर में बात करने लगें तो कोई कुछ नहीं कर सकता? यही उत्तराखंड में तमाम विकास योजनाओं का भी ‘नग्न सत्य’ है। ऐसे में अधिकारी कितना अकेला पड़ जाता है? क्या उसके अंतर्मन की पीड़ा कोई समझ सकता है? यहां स्थिति थोड़ा अलग थी कि मैं वीना सेखरी के साथ तीन साल तक चले नाटक की साक्षी थी। मुझे इसका खामियाजा उठाना पड़ा। बायोफयूल कंपनी ने मेरा 6-7 माह का वेतन रोका। मुझ पर दबाव था कि वीना सेखरी का साथ छोड़ दूं। मेरे पास कंपनी की गाड़ी थी। मुझे तीन दिन का वक्त दिया कि इनका साथ छोड़ो नहीं तो गाड़ी ले लेंगे। इनसे दूर हो तो सैलरी दोगुनी होगी। मुझे वह दिन याद है। मैंने सोचा अरे तीन दिन तो क्या मुझे तीन सैंकेड भी नहीं चाहिए। मैंने चुपचाप आफिस छोड़ा और पैदल निकल गई। मुझे दबाव में लेने को रोकी सैलरी पांच साल बाद भी नहीं दी गई। मुझे काफी समय खाली रहना पड़ा पर सिद्धांतों के चलते ऐसे नुकसान उठाने ही पड़ते हैं। हां नुकसान की भरपाई बीना सेखरी के साथ गहरी दोस्ती के तौर पर हुई।

मुझे आज भी दुख है कि यह देश का एकमात्र बोर्ड था जिसको सी.डी.एम.(क्लीन डवलपमैंट मैकेनिजम) के अंतर्गत ‘होस्ट कंट्री एप्रूवल’ मिला था। यह आई.एस.ओ. प्रमाणित और 37-AC सार्टिफिकेट प्राप्त बोर्ड था। जिसका सीधा फायदा उत्तराखंड को होना था। मैंने इसका क्रियान्वयन माडल समझा। तत्कालीन राष्ट्रपति डा.अब्दुल कलाम की टिप्पणी थी ‘कि उत्तराखंड का यह माडल पूरे देश में दोहराने लायक है’। यही वजह थी कि मैं व्यक्तिगत खतरे उठा वीना सेखरी के नहीं बल्कि ‘सत्य’ और अपार जनहित से जुड़े एक ‘उद्देश्य’ के साथ खड़ी हुई थी। जमीनी क्रियान्वयन सही ना होने पर ग्रामीणोन्मुखी वैकल्पिक ऊर्जा का यह कार्यक्रम निष्क्रीय हुआ। व्यक्तिगत हितों के कारण इसका खत्म होना एक अजन्मे बच्चे का मां के गर्भ में ही अंगड़ाई लेते हुए मौत होना जैसा है। यद्यपि आज बोर्ड क्रियाशील नहीं है पर बोर्ड के अपने कडुवे अनुभवों के बाद बोर्ड ही नहीं पूरे देश में कदम-कदम पर सक्रिय ऐसी क्रूर ताकतों के बारे में मेरी यही टिप्पणी है कि ‘हे ईश्वर उन्हें माफ करना जो यह नहीं जानते कि वह यह सब क्या और क्यों कर रहे हैं? और इसका असर किस पर पड़ रहा है? हे प्रभु उनको सद्बुद्धि दो जो गरीबों के हक का निवाला अपनी शान शौकत के लिए छीनने से जरा भी नहीं डरते!

ऐसी गहरी सोच और ठहरे व्यक्तित्व वाली महिला का उत्तराखंड काडर चुनना सुखद था, जहां जंगल औरतों का मायका व जंगलों को बचाना उनका धर्म है। पहाड़ की हर औरत ‘नंगे पांव चलने वाली बिना डिग्री की अनुभवी फौरेस्टर’ है। मुझे बीना सेखरी से बहुत उम्मीदें थीं। मैं सोचती थी कि ऐसी ‘वूमन फौरेस्टेर’ हमारी ‘बेयर फुटेड वूमन फौरेस्टरस’ के साथ जल, जंगल, जमीन और औरत की जिंदगी पर आधारित ‘आफ्टर चिपको’ की एक जींवत दास्तान औरतों के हक में लिखेंगी। और मैं भी उस सुंदर स्क्रिप्ट की भागीदार हूंगी जिससे हमारी ‘फागुनी देवी’ अपने हिस्से का घास, लकड़ी, पानी और धोती के पल्लू की गेड़ में थोड़ी ‘आजीविका’ बांध मुस्करा सकेगी. पर अफसोस! उत्तराखंड में सिर्फ वही होता है जो राजनीति चाहती है। खैर…! आज वीना सेखरी जंगलात के पचड़ों से दूर आराम से रिटायरमेंट की जिंदगी बिता रही हैं।

 

 

 

 

 

 

Posted in General | Leave a comment

पगडंडियाँ Hue, Cry and Whispers from Uttrakhand.. 12

 

 

19148905_139910586559396_7763556920055007458_n

अन्तर-बोध

घर की तलाश…
एक चिड़िया के बच्चे चार, घर से निकले पंख पसार
पूरब से पश्चिम को जाते, उत्तर से दक्षिण को आते
देख लिया हमने जग सारा, अपना घर है सबसे प्यारा!

मैंने ये पंक्तियां पहले-पहल स्कूल की देहलीज़ पर सुनी थीं. मैंने सरस्वती शिशु मंदिर टिहरी में पढ़ा. कक्षा ‘शिशु क’ में कोई दीदी जी ने सिखाई थी. उनका नाम कभी याद नहीं कर पाई पर कविता याद है. मुझे याद है पहली बार स्कूल जाना. बच्चे माता-पिता से पहली बार बिछुड़े परिंदों की तरह चीं-चीं कर रहे थे. रोने धोने का ये सिलसिला हर बच्चे की अपनी पूंजी है. कोई एक दिन तो कोई अपने महफूज नीड़ की तलाश में महीनों रोता रहा. रोते बच्चों को देख सब सामूहिक रोने लगते. मैं कभी रोई नहीं. एक ओर ये रोने-रुलाने सिलसिला चलता तो दूसरी ओर टीचर ने सस्वर कविता पाठ सिखाना शुरू किया. इस उन्मुक्त रुदन और क्रंदन के बीच बेचारी क्लास टीचर क्या करे? तो वो चुप कराने-बहलाने-फुसलाने को ये कविता ही रटाती ना.

तो दोस्तों! कविता की ये चार लाइनें मेरी जिंदगी की पहली कविता है. और जीवन यात्रा में मेरा ‘पाथेय’ है. मुझे याद है हमको ये कविता सिखाई और गवाई जाती. हम जोर-जोर से उछल-उछल परिंदों के माफिक हाथ हवा में उड़ा-उड़ा कर ये गाते. गाते वक्त हमको सिखाया जाता कि सोचो तुम एक सुन्दर रंग बिरंगी चिड़िया हो. तुम को माँ बाप ने घर से बाहर खुले आकाश में उड़ने को छोड़ा है. घर से बाहर तुम्हारा स्कूल ही आकाश है. चलो स्कूल के इस आकाश में उड़ें. आजाद मैदान से पहले हमारा स्कूल जैन बंधुओं के बगल के मकान में था. हम दूसरी मंजिल में होते थे. उसका फर्श लकड़ी का था. लकड़ी पर कूदने में जो आवाज होती उससे डरकर बच्चे चुप हो जाते. दीदी कहती ज्यादा जोर से नहीं उड़ो. कहीं तुम्हारे पंख न टूटे. कहीं तुम फर्श न तोड़ दो. फिर सब नीचे गिर जायेंगे तहखाने में. हम डर कर उतना ही कूदते जितने में फर्श न टूटे. वो कहती अपने हाथ हवा में उतने ही ऊपर उड़ाओ जितने से किसी दूसरे से न टकराओ. किसी दूसरे को तुमसे चोट न लगे. तुम्हारा संतुलन न बिगड़े और तुम गिरो ना. तुम्हारा गीत गाना भी उतना ही ऊँचा हो जिससे वो सुनने में मधुर लगे. तुम्हारी आवाज नीचे सड़क चलने वाले लोगों को तकलीफ न दे. बच्चे रोते रहते और टीचर की हिदायत पूरी करने की कोशिश करते. पूरा दिन इसी को गा उछलते-कूदते रहते. लगभग पूरा एक महीना ये खेल तब तक चला, जब तक हर बच्चा चुप हो बैठना नहीं सीखा. याने हम पछियों की तरह दोनों हाथों को पंखों की तरह उड़ा ये लाइनें गाते. साथ ही रोते रहते. महिना भर रटते-रटते ऐसा घोटा लगा कि बस बचपन का ये सबक आज तक पत्थर की लकीर की तरह दिल दिमाग में बैठ गया है. क्या सुन्दर तरीका था बच्चों को स्कूल में बांधने का और हरेक को साथ लेकर चलने का.

मेरी तो ऊम्र बीत ही गई इन चार लाइनों और टीचर के सिखाये अर्थ को समझने में. अब जाकर समझ आया कि वो ‘अनाम टीचर जी’ हम बच्चों को जीवन में ‘संतुलन में’ रहने की जरूरी सीख मुद्दतों पहले दे गई थीं. टीचर के लिए मेरा सर झुक जाता है.

20x30

मैं घर जा कर भी यह गाती रहती तो माँ ने इन लाइनों को ‘गुणना’ सिखाया. वो छोटी ऊम्र में ही इसके गहरे मतलब समझाती. मैंने कितना समझा ओर कितना नहीं ये तो नहीं पता पर ये चार-पांच लाइनें कब मेरी जिंदगी की ‘पंच लाइनों’ में बदल गई पता ही नहीं चला. माँ उस वक्त वक्त बहुत बीमार पड़ी. बचने की कोई उम्मीद नहीं थी. वो कहती कुसुम जब मैं मरूंगी तो सुन्दर पंछी या रंग-बिरंगी तितली बन आकाश में उडूँगी. फिर पंछी बन सारे दुनिया जहाँ को देखूंगी. वो बोलती तुम्हारी ये कविता बहुत सुन्दर है. वो मुझे कविता से चारों दिशाओं के बारे में बताती. वो बिलकुल पढ़ी लिखी नहीं थी पर उसको दुनिया जहाँ की पूरी खबर थी. उसकी दुनिया जितनी बड़ी थी वो सब कुछ मुझे बताती. उस जैसा ज्ञानी मुझे दोबारा नहीं टकरा. वो बहुत खामोश थी. उसका नपा तुला बोलना और एक-एक अक्षर मैं उसके जीते जी नहीं समझ पाई. इसका आज बड़ा अफसोस होता है.

खैर…कविता की ये चार लाइनें हमारे बीच बातचीत का मुद्दा होती. हम पुरानी टिहरी में  बस अड्डे के ऊपर नेगी हॉउस में रहते. गंगा किनारे ये बहुत बड़ा और सुन्दर घर था. मेरी माँ ने उसे फूलों और साग सब्जी से सजा धजा रखा था. उसके चारों ओर की मुंडेरों में बैठ हम दोनों की दुनिया जहान और दुनियादारी की पाठशाला चलती. वो हर रोज नया सबक सिखाती. माँ ने ही टिहरी के बारे में, टिहरी के वाशिंदों के मजबूत सामाजिक ताने बाने और इन्सान की अन्दरूनी सुन्दरता को समझने की संवेदना दी. माँ ने दुनिया को समझने-बुझने का सलीका सिखाया. जिंदगी का हिसाब किताब, गणित- गुणा- भाग-जोड़- घटाना, इतिहास, भुगोल, जिंदगी और कुदरत के नियम कानून, भाषा, गीत संगीत, सब कुछ इन चार लाइनों में मुंडेर पर बैठ अपनी पाठशाला में बिना किसी तख्ती-पाटी के सिखाया. उसने मुझे इन पंछियों और तितलियों की उड़ान से सृष्टि, विज्ञान और मानवता के सुन्दर पाठ पढाये. इस कविता से हमारी उड़ान शुरू होती और धर्म और अध्यात्म की रहस्मयी और रोमांच की दुनिया में ख़त्म होती. वो घर गाँव की और पुराणों की कहानी सुनाती. वो मुझे पहाड़ी गीत सुनाती. उसने मुझे पहाड़ के लोक नृत्यों-लोक गीतों का पहला सबक ‘बेडा लोगों’-लोक कलाकारों को नाचते-गाते देख सिखाया था. वो भी क्या दिन थे. पूरी एक उस पर किताब लिख सकती हूँ. मेरी माँ सही मायने में एक बहुत अच्छी खामोश दोस्त थी. लोग उसको उसके गुणों के कारण बहुत याद करते हैं.

550px-IMG_2587

हिलांस (काकू/हरियल तोता )

माँ उस वक्त तो बच गई पर 2004 में चुपचाप सुन्दर पंछी की तरह उड़ गई. माँ को सलीके से रहना-पहनना- खाना- बोलना पसंद था. सलीका और बेहद शांत स्वभाव उसकी खास पहचान थी. मुझे याद है आखरी दिनों में एक दिन मेरी बहन नई टिहरी के घर के बरामदे में बैठ माँ के बाल बना रही थी. वो उन दिनों बहुत बीमार थी. वो बहुत कम और धीमा बोलती थी. गुस्सा या नाराज होना तो वो जानती ही नहीं थी. अचानक टिहरी झील की ओर खुले आकाश को देख बोली मेरी बिंदी और सिन्दूर कहाँ है? फिर अचानक बोली- कुसुम तुझे याद है ना जब मैं मरूंगी तो मैं सुन्दर पंछी या तितली बन आकाश में उडूँगी. जब कभी मेरी याद आये तो आकाश में उड़ते परिंदों को देखना…तितलियों को उड़ते देखना. न जाने क्या क्या बोलती रही…. मैंने माँ से पूछा क्यों? क्योंकि परिंदे आजाद होकर दुनिया जहाँ में बिना ‘बाउनडरी’ के घूमते हैं. पंछी आकाश में उड़ते वक्त लाइनें नहीं खींचते. चुपचाप मुक्त हो मीलों उड़ते  जाते हैं बिना कुछ कहे और किसी पर हक जमाये….उसको खुला आकाश, बादल, खिलते रंग बिरंगे फूलों की क्यारियां, रात को खिले तारों की ‘टिमटिमाती फसल’ और खेतों में ‘लहलहाते गेहूं’ बहुत पसंद थी. उसके अचानक कहे इन शब्दों ने मुझे फिर से अपनी बचपन की कविता और नेगी हॉउस की मुंडेरों पर माँ के साथ बैठे दिन मुद्दतों बाद याद दिला दिए. अब मेरे लिए बचपन की कविता की लाइनें और उसके अर्थ और गहरे हो गए थे. तब से ये आकाश के परिंदे मुझे माँ की याद दिलाते हैं. मैं अक्सर इन चार लाइनों में माँ के शब्दों की गहराई को समझने की कोशिश करती हूँ …पर और उलझती जाती हूँ. मैं जानती थी अब माँ के पास वक्त नहीं है. 10 सालों से हर रोज उसे बीमारी से लड़ते हम देख रहे थे. पर बीमारी न उसकी मुस्कान लूट पाए न उसे मरते दम तक खिजा पाए. वो वैसे ही शांत और खामोश पथिक की माफिक अपने ‘उस घर’ चली गई. जिसके गहरे अर्थ का सबक उसने मुझे बचपन में सिखाया था. माँ की ये तस्वीर सालों की बीमारी के बाद जाने से कुछ वक्त पहले की है. उसको ये हिलांस पंछी बेहद पसंद था.

मेरी जिंदगी में कदम-कदम पर सब कुछ बदला पर ये ‘चार पंक्तियां’ दिल के किसी कोने में जिंदगी के कम्पास यानि ‘दिशासूचक’ की तरह राह दिखाती रहीं. ऊम्र के हर मोड़ पर इन पंक्तियों के मायने मेरे लिए कदम-कदम पर बदलते रहे. पर यह पंक्तियां सिखाने वाली मेरी गुमनाम टीचर और इन लाइनों के मायने ओर उनको गुणना सिखाने वाली मेरी ‘माँ’ मेरे मन अन्दर की परतों में मेरे अपने ‘घर’ में एक तिलिस्म की माफिक कैद हैं. मैं जब-जब बहुत थकती हूँ तो इनको याद कर इसके गहरे अर्थों में डूब बहुत सुकून मिलता है. उस वक्त लगता है आज मेरी टीचर और माँ जिंदगी का कुछ नया गहरा फलसफा सिखा रही हैं. मैं भी सुकून से तरोताजा हो अपने ‘घर’ से वापस ‘बाहर’ की दुनिया में उड़ने चली आती हूँ फिर से दुनिया में अपनी टीचर और माँ के गहरे शब्दों की रूह पकड़ने को…

मेरी ‘घर’ की तलाश में मैं जब भी अंधेरों से टकराई किसी ‘अनजाने फरिश्ते’ ने अपने किसी ‘नायब बन्दे’ को भेज मुझे नई ‘पगडंडी’ दिखा मेरे ‘असली घर’ का रास्ता दिखाया. मैं भटकती रही इस उम्मीद में कि कभी तो जन्म जन्मातर से चली मेरी अपने ‘असली घर’ की तलाश पूरी होगी. कोई तो मुझे ‘घर’ के असली मायने समझाएगा? मैं यही प्रार्थना करती- हे प्रभु मेरी अपने घर की तलाश मुझे अकेला नहीं छोड़ना. मैं उन्मुक्त पंछी की तरह अपनी ‘चार लाइनों के पखों’ पर खुले आकाश में आजाद उड़ना चाहती हूँ. बिलकुल अपनी ‘माँ और टीचर के ख्यालों’ की माफिक….अपने ‘स्व’ की खोज में शरीर और मन के बंधनों से कंहीं बहुत दूर बिलकुल आजाद!

मेरी ‘घर’ की खोज जारी रही. यह कोई अप्रैल 2010 के कुम्भ की बात होगी. मैं जूना अखाड़े के आचार्य स्वामी अवधेशानंद गिरी जी के आश्रम में अपनी किसी प्रिय माई दोस्त के साथ रुकी थी. स्वामी जी शाम की पारी में उपदेश देते थे. एक शाम मैं महामृत्युन्जय शिवालय की मुंडेर पर खड़े हो उनके ‘पाथेय’ उपदेश को सुन रही थी. स्वामी जी की शब्दों को बाजीगरी मुझे बहुत सुन्दर लगती है. वो कुछ बोल रहे थे. अचानक मुझे लगा मेरे बाजू में मैंने स्वामी रामतीर्थ को खड़े पाया स्वामी जी के रूप में…मुझे झटका लगा. स्वामी राम मेरे पहले मानस गुरु हैं जिनके व्यावहारिक वेदांत के रट्टे लगाते-लगाते मैं बड़ी हुई. मुझे कुछ ऐसे करंट लगा कि बचपन की ये चार लाइनें फिर से मुझे तंग करने लगी. मैं सोचती रही फिर से ये चार लाइनें क्यों? मेरी इस सोच के साथ मेरे हमेशा के सर्व प्रिय सुर-कबीर-रहीम-मीरा जेहन में आ खड़े हुए….जिनको मैं भूल सी गई थी. अचानक स्वामी जी के ‘पाथेय’ ने ऐसे मोड़ पर ला खड़ा किया. वो मुझे मेरी इन चार लाइनों में बसे ‘घर’ का अर्थ का एक नया गहरा अर्थ समझा गए महाकवि सूरदास की इन सुन्दर पंक्तियों में-

मेरो ‘मन’ अनंत कहाँ सुख पाए जैसे उड़ी जहाज को पंछी पुनि-पुनि ‘जहाज’ पे आये…मैंने भाव विभोर हो अपने स्वामी जी को प्रणाम किया पर मेरी घर की तलाश जारी रही. 2013 में अचानक एक अनाम साधू की दिल को छूने वाली किताब ‘टिया’ ने मुझे मेरी ‘घर की तलाश’ को नया मोड़ दिया. ये बहुत सुन्दर पुस्तक है. इसकी प्रस्तावना मेरे पसंदीदा डॉ. अब्दुल कलाम साहिब ने लिखी है…कभी हाथ लगे तो जरूर पढ़ें.

बचपन की इन चार लाइनों के साथ मेरी अपने ‘घर’ की तलाश अपने गुरुजी के साथ जारी है. बस यों ही आपके साथ ये चार सुन्दर लाइनें बाँट लीं. आपको पसंद आयें. सरस्वती शिशु मंदिर स्कूल के पहले दिन ‘टीचर जी’ से सीखा और अपनी ‘माँ’ से साल दर ‘गुणा’ कविता की इन चार लाइनों का ‘घर’ का ये सबक कब जिंदगी का सबक, सबब शऊर और तलाश बनी पता ही नहीं चला. मेरी ये पोस्ट मेरी माँ, अनाम टीचर जी, शिशु मंदिर के दोस्तों की बाल टोली मसलन कल्याणी सकलानी, अनीता भट्ट, डॉ शिखा कुकशाल, अनीता नौटियाल, और मेरे गुरुजनों समेत तमाम उन लोगों के लिए, जो ‘घर’ के असली मायने समझने-समझाने के कठिन सबक में मेरे बहुत करीब खड़े हैं…

Posted in General | Leave a comment

पगडंडियाँ Hue, Cry and Whispers from Uttrakhand… 11

19148905_139910586559396_7763556920055007458_n

कैसा बाल विकास और किसका महिला सशक्तिकरण

सूबे में बाल विकास विभाग में मंत्री रेखा आर्य और प्रमुख सचिव राधा रतूड़ी के बीच तबादला विवाद के चलते अपनी नेकनीयती व  ईमानदारी के लिए मशहूर अधिकारी राधा रतूड़ी ने माँ और बच्चों की सेहत से जुड़े और कुपोषण ख़त्म करने वाले महकमे से खुद को किनारे करने को लिखा है. ये बहुत दुखद है कि विवादास्पस्द लोगों के कारण ईमानदार लोग किनारा करें. ऐसे में तो हो गया सूबे का विकास….चाहे आप दो की जगह चार इंजन एक साथ क्यों न लगा लें. वो भी सबसे ज्यादा हार्स पवार के प्रकरण पर मेरा ये मेरा आलेख नहीं बल्कि पूरे सूबे के आम आदमी का दर्द है. …क्या सूबेदार गौर करेंगे!

photo of Radha Raturi

राधा रतूड़ी 

मैं एन.एच.74 घोटाले में सी.बी.आई.जांच न होने और प्रकरण के ठंडे बस्ते में पड़ने से बहुत हैरान हूँ. प्रदेश में आये दिन विवादास्पस्द नियुक्तियों, लंबित विवादास्पस्द भुगतानों, विवादस्पद लोगों की नियुक्तियों जैसे अनेकों प्रकरण आये दिन अख़बारों और सोशल मीडिया की सुर्खियाँ बन रही हैं. ऐसे प्रकरण भी होंगे जो मीडिया की सुर्खियाँ न बन सके पर जब उनसे पर्दा उठेगा तो प्रदेश सन्न रह जायेगा कि गरीब-गुरबों-औरतों-कमजोर-युवाओं के नाम पर चलने वाली योजनाओं में क्या चल रहा है?

इनसे इतर मेरे लिए हैरानी भरा प्रकरण कि उत्तराखंड में बाल विकास व महिला सशक्तिकरण मंत्रालय में कुछ ठीक ठाक नहीं चल रहा है. सुना है बाल विकास मंत्री रेखा आर्य और प्रमुख सचिव राधा रतूड़ी के बीच शीत युद्ध चल रहा है. उसका कारण विजिलेंस जांच में फंसे बागेश्वर के डी.पी.ओ. उदय प्रताप सिंह सहित 8 और विवादास्पद तबादले हैं. अख़बारों का कहना है कि इन साहब को 2015 में विजिलेंस ने रिश्वत प्रकरण में गिरफ्तार किया था. उस वक्त ये रुद्रप्रयाग के प्रभारी डी.पी.ओ. थे और सस्पेंड हुए थे. साल भर पहले ये बागेश्वर आये थे. उस वक्त भी सवाल उठे थे. सुना है उदय प्रताप सिंह सहित कई और मनमाफिक पोस्टिंग चाहते थे. पर वह नहीं हुआ. राधा रतूड़ी विजिलेंस का चार्ज भी देख रही हैं. वह इन तबादलों के पक्ष में नहीं थी. मंत्री ने प्रमुख सचिव के बिना पूर्व अनुमोदन के किये तबादलों को निरस्त कर दिया है. दोनों पक्षों ने मुख्यमंत्री से अपना-अपना पक्ष रखा है.

अपनी ईमानदारी, नेकनीयती, कर्तव्यनिष्ठा, सूबे के हर बंदे से अपने सद्व्यवहार के कारण चर्चित और आज तक कभी किसी विवाद में न आने वाली सूबे की मशहूर अधिकारी राधा रतूड़ी ने सुना है अपना विभाग बदलने को लिख दिया है. यह देखने की बात होगी कि ‘जीरो टोलरेंस’ की यह सरकार किस तरफ झुकती है? क्या वह अपने मंत्री का साथ देगी? या अपने ‘भ्रष्टाचार मुक्त उत्तराखंड’ की राह पर चलेगी? मैं इस मुद्दे के नेपथ्य में बाल विकास और महिला सशक्तिकरण से जुड़ा महत्वपूर्ण मुद्दा जनहित में सामने लाना चाहती हूँ.

उत्तराखंड के विकास के लिहाज से बाल विकास विभाग महत्वपूर्ण महकमा है. इसके अंतर्गत 2 अक्टूबर 1975 से चलने वाली आई.सी.डी.एस. परियोजना दुनिया के सबसे बड़े और अनोखे कार्यकर्मों में एक है. जो गर्भवती माँ, धात्री माँ और 0-6 साल के बच्चों को ‘टेक होम राशन योजना’ के अंतर्गत प्रदेश भर में आंगनबाड़ी केन्द्रों के माध्यम से ‘पुष्टाहार आपूर्ति’ का काम कर रही है. 2012 में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कुपोषण को ‘राष्ट्रीय शर्म’ कहा था. इस कार्यक्रम को भारत में अपने नौनिहालों के प्रति देखभाल व समर्पण की सोच के साथ देखा जाता है. इसका उद्देश्य बच्चों के स्वास्थ्य व पोषण के हालत सुधारना है. इसके मूल में कुपोषण और एनीमिया ग्रस्त बच्चों व औरतों को ‘खाद्य और पोषण सुरक्षा’ मुहैया कराना है. इसके अलावा इसमें ‘कुपोषण को खत्म करने हेतु ‘अनुपूरक पुष्टाहार’ की भी व्यवस्था है. कुपोषण खत्म करने की सोच पर टिके इस मिशन में आये दिन भ्रष्टाचार की खबरें आती रहती हैं. इसमें प्रदेश का 200 करोड़ से ज्यादा ही बजट होगा. पिछली सरकार ने वृद्धा माताओं को भी ‘टेक होम राशन योजना’ में जोड़ा. जिसकी धनराशी अलग है. योजना सीधे जमीन से आखरी औरत और बच्चे के हित से जुड़ी है. हजारों ‘आगंनवाडी वर्कर’ इससे जुड़े हैं. लाखों बच्चे और माँ इसके लाभार्थी हैं.

अच्छा होता मंत्री जी आप ऐसी जमीन से जुड़ी योजना को विवादों से दूर रखती और विवादस्पद लोगों की तरफ न झुकती. ऐसे हालत न पैदा करती कि राधा रतूड़ी सरीखी अधिकारी को इससे खुद को अलग करने हेतु लिखना पडता.

मंत्री जी मैंने इस कार्यक्रम का जमीनी क्रियान्वयन नजदीक से देखा है. प्रोग्राम का बारीकी से अध्ययन कर कई इलाकों में आंगनबाड़ी केंद्र तक जाने वाली करोड़ों रुपयों की सप्लाई की जमीनी हकीकत देखी है. गाँव की औरतों, आगंनवाडी वर्कर और दस्तावेजों में इतने चौंकाने वाले तथ्य मेरे सामने थे कि कोई भी चक्कर खा जाये या शर्म से डूब मर जाये. मुझे बहुत तकलीफ होती है कि कैसे उत्तराखंड के सबसे गरीब तबके का हिस्सा व हक़ बंटवारे में जाता है? मंत्री जी मेरे संज्ञान में सैकड़ों प्रकरण हैं. मैंने आपसे मिलने का वक्त माँगा था. आप मुझे मिलने का मौका दें. मैं आपको बता सकती हूँ कि प्रदेश भर में बाल विकास में पुष्टाहार का सच क्या है? महिला सशक्तिकरण के नाम पर चलने वाली योजनाओं की सेहत कैसी है? कैसे औरतें सहकारिता के नाम पर बेवकूफ बनाई जा रही हैं?

मेरा नम्र निवदन है कि 2-4 जिलों मसलन अल्मोडा में ही पुष्टाहार योजना की विजिलेंस जांच करें तो पुरे प्रदेश में चल रही बैटिंग का हाल जान जायेंगी. आप सूबे की आधी आबादी की कप्तान हैं. आप पर बड़ी जिम्मेदारी है कि आपके होते आखरी औरत के साथ अन्याय न हो. पर यक्ष प्रश्न है कि जब आज सबसे ईमानदार महिला अधिकारी राधा रतूड़ी आपके साथ काम करने से बच रही है तो आप से सूबे की आधी आबादी क्या उम्मीद करेगी? यह प्रकरण पूरे प्रदेश में गलत सन्देश दे रहा है. मैंने पिछले 17 सालों में आज तक किसी को भी उन पर ऊँगली उठाते नहीं देखा? मंत्री महोदय काश आप इस विभाग व पुष्टाहार योजना का ईमानदारी से पालन करा सकें तो आपको दुआएँ भी मिलेंगी, वाहवाही भी और वोट भी थोक के भाव मिलते ही रहेंगे. मेरी बात पर यकीं न हो तो जनमत संग्रह करा के देख लें.

 

Posted in General | Leave a comment

पगडंडियाँ Hue, Cry and Whispers from Uttrakhand…10

निर्भया सम्मान बहुत-बहुत मुबारक कमला दी!

11

आपको मुबारक देने से पहले सोशल मीडिया की आभारी हूँ. उससे ही पता चला आपको ‘निर्भया सम्मान’ से नवाजा गया. मीडिया में तो ये कभी पता ही नहीं चलता और आप कभी बताते नहीं. यह सिर्फ कमला भसीन का नहीं बल्कि पूरे ‘नारीवादी आन्दोलन’ का सम्मान है. आपने और आपके साथियों ने सालों इस मुद्दे को बंद कमरों की दीवारों से घर की चौखट और फिर गाँव और समाज की चौपालों तक लाने में जो संघर्ष किया. ये निर्भया सम्मान उसी की मिसाल है. वैसे मुझे हमेशा लगा कुछ लोग काम, प्रतीकों और सम्मान से ऊपर होते हैं. वो आम भीड़ का हिस्सा नहीं होते.

कमला दी! आपको और आभा भैया को मैंने उन खास लोगों में ही देखा. मुझे बहुत ख़ुशी हुई ‘निर्भया सम्मान’ की बात जानकर. इस मुबारक मौके ने मुझे आपका आभार प्रकट करने का मौका दिया. मेरे वो शब्द जो 1994 से सिर्फ मेरे ही जेहन में कैद थे आज सार्वजनिक कर रही हूँ. मुझे बेहद ख़ुशी है कि आपसे इतना नजदीक का रिश्ता रहा. आपसे कितना सीखा ये तो पूरा इतिहास है पर इतना कह सकती हूँ कि नारीवादी आन्दोलन की सुन्दर इबारत और ईमारत आपके गीतों, लेखों, किताबों, प्रशिक्षण सत्रों के बिना अधूरी है. आपने सही कहा यह सम्मान कमला का नहीं नारीवादी आन्दोलन का सम्मान है. उस मजबूत बुनियादी सोच का सम्मान है जिस पर ये बुलंद ईमारत टिकी है. एक लाईन मैं जोडूं- जिसका झंडा उठाने वालों में कमला दी आप और आपके गीत आगे-आगे थे.

कमला दी मुझे आज भी याद है आप व आभा दी से पहली मुलाकात. मेरे लिए डिग्री कालेज और टिहरी बाँध की नौकरी के बाद महिला समाख्या में एक दुर्घटनावश आना महज़ संयोग था. 6 महीनों में मेरी समझ नहीं आया कि नारीवाद क्या है? न कोई मुझे समझा पाता. मैं इसके गहरे अर्थ खोज रही थी. ऋषिकेश प्रशिक्षण में नारीवाद पर आपका और आभा दी का सेशन. मैंने ‘नारीवाद’ के इतने सुन्दर मायने न पहले सुने थे न ही उसके बाद आज तक किसी ने समझाये. मेरी समझ में जब आया कि नारीवाद वो संघर्ष नहीं जो लोग समझे बैठे हैं. ये एक दूर का मिशन है. जिसका अपना एक खास विजन है और अपनी ही एक परिभाषा है. अपनी ही एक गति और लय है. इसके परिणाम भी किसी न किसी रूप में अंगड़ाई लेने लगे हैं. यह सम्मान उसका प्रतीक है. नारीवादी आन्दोलन की अंतिम परिणिती दुनिया भर की औरतों का सुन्दर दिन होगा. सृज़न का दिन होगा क्योंकि औरतें ही सृष्टि में मूलतः सृज़न की शानदार और जानदार परम्परा की सरंक्षक, वाहक और चौकीदार होती हैं.

मैंने जो उस दिन समझा साझा कर रही हूँ कि नारीवाद वो आन्दोलन नहीं, जहाँ हम सिर्फ महिला और पुरुष के भेद्भाव पर बात कर समाज में समानता की बात करतें हैं. बल्कि नारीवादी सोच समाज में कदम-कदम पर व्याप्त हर तरह के शोषण, अन्याय, उत्पीड़न अत्याचार, संघर्ष और असमानता का पुरजोर विरोध करता है. फिर चाहे वह गैर बराबरी महिला-पुरुष के बीच हो, अमीर-गरीब के बीच हो, जाति-वर्ग-धर्म-मजहब-लिंग के बीच हो. या फिर किसी और भी कारण से समाज में शोषण व असमानता को बढ़ावा देता हो. नारीवाद हर उस सोच व उसके वाहक बन्दे का शालीनता से विरोध करता है. नारीवाद अहिंसा की बुनियादी सोच पर टिका है. क्योंकि नारीवाद सिर्फ गैर बराबरी की दीवारें गिरा हकों की बराबरी की बात नहीं करता बल्कि इस बराबरी को पूरी मानवीय गरिमा, इज्ज़त और समानता के साथ पाने की पुरजोर वकालत भी करता है. सच कमला दी! मुझे लगा यह तो मेरी मानवीयता और इन्सानियत की सोच के सबसे नजदीक का वाद है…

उस रात मैंने एक पोस्ट कार्ड आभा दी को लिखा. मैंने लिखा था कि बचपन में अमृता प्रीतम  की आत्मकथा ‘रशीदी टिकट’ पढ़ी थी. उसमें न जाने क्यों एक लाइन बहुत पसंद आई थी जो अमृता ने साहिल के लिए लिखी थी- राही तुम मुझे जिंदगी की संध्या बेला में क्यों मिले?  तुमको मिलना ही था तो जीवन दोपहरी में मिलते. कम से कम मैं भी उस दोपहरी का सेंक देख लेती. मैंने लिखा था आप लोग मुझे थोड़ा देर से मिले…मैं शायद आपको व आपके इसी नारीवाद सोच को ही खोज रही थी. आप दोनों के साथ नेपाल की ‘जेंडर और विकास की’ की 1 माह की कार्यशाला मेरे जीवन का निर्णायक मोड़ था. मैं बहुत सालों से काम और आप लोगों से दूर हूँ. पर इस मुबारक मौके पर आपको दिल से शुक्रिया और मुबारक कहने का मौका नहीं खोना चाहती. शायद इन 10 सालों में मेरे चोकलेट का पूरा डब्बा जमा हो गया होगा. भूलना नहीं हाँ!

सो आपको और पूरे नारीवादी आन्दोलन के नामी-गुमनामी में जीने वाले तमाम साथियों को मेरा ‘निर्भय सलाम’! क्योंकि जो भी निर्भय है वही अपनी-अपनी बेड़ियों से आजादी का पूरा हक़दार है. आपके ही मेरे पसंदीदा गीत की इन लाइनों के साथ-

मिलकर हम नाचेंगे गायेंगे, मिलकर हम खुशियाँ मनाएंगे, जिंदगी अपनी सजायेंगे

मुझे आप पर गर्व है हुज़ूर!

Posted in General | Leave a comment